ग्रहो की नीच राशी

1) सुर्य तुला राशी मे नीच के होते है। नीचतम डिग्री 10 डिग्री तुला राशि मे होेता है जो राहु द्वारा शासित स्वाति नक्षत्र (जिसके देवता वायु देव है)के अंतर्गत आता है । 2) चंद्रमा  वृश्चिक राशी मे नीच के होते है। नीचतम डिग्री 3डिग्री वृश्चिक राशी है। जो बृहस्पति ग्रह के बल द्वारा शासित…

ग्रहों की उच्च राशी

1)सूर्य मेष राशि मे उच्च के होते है और उच्चतम डिग्री 10 डिग्री है, जो अश्विनी नक्षत्र में होता है। 2)चंद्रमा वृष में राशि मे उच्च के होते है और उच्चतम डिग्री 3 डिग्री है जो कृतिका नक्षत्र में होता है। 3)मंगल मकर राशी में उच्च के होते है औंर उच्चतम डिग्री 28 डिग्री है,…

picsart_12-02-11-33-32

केतु देव आध्यात्मिकता के कारक

केतु देव  1) स्थिति – असुर 2) दृष्टि – खुद की स्थिति से 5 वीं और 9 वीं भाव, और राशी दृष्टि 3) किसी भी राशि का स्वामी  नहीं  है। लेकिन वह खुद की दशा के दौरान भाव जहां बैठते  हैं, उस भाव के स्वामी की तरह व्यवहार करते हैं। 4) उच्च राशी – धनु…

picsart_12-01-03-28-35

राहु देव कल्पना लोक के स्वामी

राहु देव 1) स्थिति -असुर 2)राशी स्वामी- किसी भी राशि का स्वामी नही है।लेकिन वह खुद की दशा मे भाव स्वामी की तरह व्यवहार करता है। राहु को छद्म ग्रह माना जाता है। 3)दृष्टि – 5th और 9th भाव स्वयं से 4) उच्च राशी – वृष  राशि (या मिथुन राशी) 5) नीच राशी – वृश्चिक…

picsart_11-30-12-08-11

शनि देव दुर्भाग्य के स्वामी

           शनि देव 1) ग्रहो के राजदरबार मे स्थान – कर्मचारी, शनि  हमारे कर्मो का न्यायधिश हैं । 2) ऱाशीआधिपत्य -मकर  और कुंभ राशि 3)दृष्टि- स्वयं से  7वां औंर स्वयं से 3rd औंर 10th भाव 4) उच्च राशी – तुला (तुला) राशि तथा उच्चतम डिग्री 20 डिग्री 5) नीच राशी – मेष  राशि और नीचतम…

picsart_11-27-09-09-15

शुक्र ग्रह कलियुगी धन के स्वामी

शुक्र 1) स्थिति – सलाहकार (आनंद और प्रमोद) 2) राशि स्वामी -वृष और तुला 3)दृष्टि – स्वयं से सातवे भाव पर 4) उच्च राशी – मीन राशी , उच्चतम डिग्री 27 डिग्री @मीन राशि 5) नीच राशी – कन्या राशी , नीचतम डिग्री  27 डिग्री @कन्या राशी 6) मूलत्रिकोना राशी – 0 से 15 डिग्री…

picsart_11-28-04-27-51

गगन के देवता बृहस्पति देव

बृहस्पति देव 1) राजदरबार मे स्थिति -मंत्री, धर्म गुरु, धर्माधिकारी, 2)राशि स्वामी – धनु और मीन राशि का 3) दृष्टि- विशेष दृष्टि के रूप में खुद की स्थिति से  5वॉ और 9वॉ  भाव तथा स्वयं से सप्तम भाव 4) उच्च राशी- बृहस्पति कर्क में उच्च का हाेता है।  उच्चतम डिग्री 5डिग्री है। 5) नीच राशी…

picsart_11-28-06-37-31

ग्रहो के युवराज बुध देव

बुध ग्रह 1) बुध ग्रह राजकुमार है। 2) राशि स्वामी – मिथुन और कन्या राशी 3) दृष्टि – 7th भाव पर 4)उच्च राशी  -कन्या राशी उच्चतम डिग्री @15 डिग्री कन्या राशी 5) नीच राशि –  मीन राशी, निचतम डिग्री 15डिग्री मीन राशी 6) बुध की मूलत्रिकोना राशि 16 से 20 डिग्री कन्या राशी है। मिथुन…

picsart_11-27-12-42-15

मंगल देव सभी ग्रह के सेनापति

मंगल ग्रह 1)ग्रह स्थिति– सेनापति 2) राशि स्वामी – मेष और वृश्चिक 3)दृष्टि – स्वयं से सप्तम भाव से और विशेष दृष्टि स्वयं से 4th और 8th भाव 4) उच्च राशी – मंगल ग्रह 28 डिग्री @ मकर में उच्चतम होता है। 5) नीच राशी – मंगल ग्रह 28 डिग्री @ कर्क राशी  में नीचतम…

picsart_11-26-07-06-31

चंद्रमा ग्रहो की रानी

चंद्रमा (चंद्रमा) 1)स्थिति- ग्रहो की रानी 2)राशि -कर्क राशी का स्वामी 3)पूर्ण दृष्टि- स्वयं से सप्तम भाव 4) उच्च राशी – वृषभ राशी , उच्च डिग्री 3 डिग्री 5) नीच राशी- वृश्चिक राशी, निच डिग्री 3 डिग्री 6) मूल त्रिकोना राशि 3डिग्री के बाद वृषभ में 30डिग्री तक होता है। 7) स्वयं की राशि कर्क…

picsart_11-26-11-31-23

सूर्य सभी ग्रह के राजा

           सूर्य 1)सभी ग्रह का राजा2)राशि स्वामि सिंह 3) उच्च का10 डिग्री @ मेष राशी मे4) नीच का10degree @ तुला राशी मे5) मूल त्रिकोना राशि 0 डिग्री से 20 से सिंह राशि में उसके बाद 20 डिग्री से 30 डिग्री तक अपना घर6) पूर्ण दृष्टि स्वयं से 7th भाव7) मित्र ग्रह  चंद्रमा,…